क्रिकेट इतिहास का पहला विश्व कप पहला ही मैच ओर उसमे 36 रन बनाकर भी अनोखा इतिहास बना गए थे गावस्कर

TOPICS :   Sports
Go to the profile of Sajjanpal  Singh
Sajjanpal Singh
Jun 29 , 2019 18 min read 56 Views Likes 0 Comments
क्रिकेट इतिहास का पहला विश्व कप पहला ही मैच ओर  उसमे  36 रन बनाकर भी अनोखा इतिहास बना गए थे गावस्कर

क्रिकेट विश्व कप इतिहास का पहला मैच ओर उसमे ही भारत के महान खिलाड़ी सुनील गाव्स्कर ने कुछ ऐसा किया की क्रिकेट जगत के इतिहास मे एक नया रिकॉर्ड बन गया जो आज तक कायम है ओर आधुनिक दौर के फास्ट क्रिकेट को देखे तो लगता है की बदकिस्मती से अब वो रिकॉर्ड गावस्कर के नाम ही रहेगा

क्रिकेट शुरुवाती दौर से टेस्टमैच गेम रहा है जिसे जेंटलमेन गेम कहा गया 5 दिन का मैच इंगलिश सम्मर हल्की हल्की धूप ओर दर्शको की तालियो से गूँजता स्टेडियम सिवाए तालियो की गड़गड़ाहट के कोई शोर शराबा न होता था कोई अग्रेसन नही जैसा फुटबॉल के मेचो मे अक्सर होता था शायद इसीलिए क्रिकेट को जेंटलमेन खेल ही कहा जाता था ओर उस दौर मे भारतीय क्रिकेट का उभरता सितारा था सुनिल मनोहर गावस्कर भूरी आंखो घुंघराले बालो वाला 5फिट 2 इंच के साधारण कद वाले इस युवा ने जब 1970 मे इंडीज दौरे से क्रिकेट की शुरुवात की सभी क्रिकेट प्रेमियो को अपना कायल बना चुका था फिर आया साल 1975 जब आईसीसी ने पहली बार टेस्ट sport के लेबल से बाहर निकलने की कोशिश की ओर क्रिकेट जगत का पहला विश्व कप इंगलेंड मे आयोजित करवाया टेस्ट क्रिकेट खेलने के आदि सभी खिलाड़ियो के लिए ये पहला अनुभव था जिस तरह 2007 मे पहला टी20 विश्व कप भी नया प्रयोग था जो सफल हुआ 

 

इंगलेंड मे खेले गए पहले विश्व कप मे पहला मैच ही भारत इंगलेंड के बीच आयोजित हुआ ओर भारतीय टीम जिसे वन डे क्रिकेट का रत्ती भर भी अनुभव नही था जिसके कारण पहला ही मैच भारत बुरे तरीके से बड़े अंतर से 202 रन से हारी लेकिन भारतीय टीम ने एक बड़ी उपलब्धि हासिल की क्योकि प्रथम विश्व कप मे 60 ओवर के मैच हुआ करते थे जहा इंगलेंड ने पहली पारी मे 60 ओवर के खेल मे कुल 334 रन बनाए जबकि भारतीय टीम सिर्फ 132 रन बना पाई लेकिन बड़ी बात ये थी की भारतीय टीम ने पूरे 60 ओवर खेले ओर मात्र 3 विकेट ही गँवाए ओपनर बल्लेबाज सुनील गावस्कर क्रिकेट इतिहास के ऐसे पहले खिलाड़ी बन गए जिन्होने मैच की पहली बॉल भी खेली ओर 60वे ओवर की अंतिम बॉल भी

पूरे 60 ओवर खेलने के बाद भी गावस्कर अविजित(नोट आउट ) रहे उससे भी मजेदार बात ये थी की उन 60 ओवरो मे 174 गेंद गावस्कर ने खेली जबकि रन बनाए मात्र 36 ओर उससे भी ज्यादा मजेदार बात की पूरे 60 ओवर बल्लेबाजी करते हुए भी गावस्कर ने मात्र 1 चोक्का ही लगा पाये ओर जब भारतीय बल्लेबाजी के 60 ओवर पूरे हुए तो कई न टूटने वाले रिकॉर्ड बन चुके थे शायद भारतीय टीम पहले मैच मे सारा पॉइंट वाला गणित समझ चुकी थी यही कारण रहा होगा की इंगलेंड जैसी दमदार गेंदबाजी ओर 335 के टार्गेट के बावजूद भारतीय टीम पूरे 60 ओवर खेली ओर विकेट गँवाए मात्र 3 जिसमे एक सलामी बल्लेबाज गावस्कर तो शुरू से लेकर अंत तक क्रीज़ पर खड़े रहे उस मैच ,मे भारतीय टीम हारी भले हो लेकिन द्रधता का परिचय जरूर दिया था मैच खतम होने के बाद जब गावस्कर ओर पटेल नोट आउट पेवेलियन लौट रहे थे पूरा स्टेडियम खड़े होकर तालियाँ बजा रहा था


Comments0

More In Sports